Senior Citizen Saving Scheme के नियमों के बारे में जानें

Senior Citizen Saving Scheme के नियम :-

जब आप Senior Citizen Saving Scheme के साथ नामांकन (enroll) करना चाहते हैं तो यह सुनिश्चित कर लें कि आप निम्न शर्तों से अच्छी तरह परिचित हैं :-

  1. नामांकन (enroll) के लिए आपको 60 वर्ष या उससे ऊपर का होना चाहिए | कुछ स्थितियों में, 55 वर्ष और उससे अधिक की आयु वर्ग के व्यक्तियों का भी नामांकन (enroll) सफलतापूर्वक किया जा सकता हैं |
  2. SCSS में प्रति खाता केवल एक जमा की अनुमति दी गई है | जमा की अधिकतम सीमा 15 लाख रुपए तय की गई है |
  3. SCSS खाते में जमा पैसे पर पहली ब्याज दर 31 मार्च / 30 सितम्बर / 31 दिसंबर को देय होगा | उसके बाद ब्याज प्रत्येक वर्ष की 31 मार्च, 30 जून, 30 सितंबर और 31 दिसंबर को दिया जायेगा |
  4. इस बचत योजना की अधिकतम अवधि 5 साल है | हालांकि, परिपक्वता के बाद, कार्यकाल को एक बार 3 साल के लिए बढ़ाया जा सकता है |
  5. एक आवेदक एक से अधिक खातों को एक साथ operate कर सकते हैं, व्यक्तिगत रूप से या एक संयुक्त खाता धारक के साथ जो पति या पत्नी सकते हैं | हालांकि, खाता धारक को यह सुनिश्चित करना चाहिए की इन खातों के संचालन से संबंधित सभी आवश्यकताओं वैधता और न्यूनतम संतुलन को पूरा किया जाना आवश्यक है|
  6. यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि नकदी के निवेश को स्वीकार्य तब किया जायेगा जब प्रारंभिक राशि 1 लाख रुपये से काम हो | 1 लाख रुपए से ज्यादा राशि पर उसे चेक द्वारा स्वीकार्य किया जायेगा |
  7. खाते को आसानी से एक बैंक / पोस्ट ऑफिस से दूसरे बैंक / पोस्ट ऑफिस में स्थानांतरित किया जा सकता है |
  8. SCSS नामांकन (nomination) की सुविधा का लाभ खाता खोलने के समय में उठाया जा सकता है या खाते को निर्धारित अवधि तक चलाने के बाद उठाया जा सकता है |
  9. यदि जमाकर्ता समय से पहले ही अपने खाते को समाप्त करना चाहता है, तो penalty इस प्रकार होगी :- एक साल के बाद जमा राशि का 1.5% और दो साल के बाद जमा राशि का 1% | कृपया ध्यान दें कि SCSS के खाते को समय से पहले बंद करना खाते के न्यूनतम एक वर्ष चलने के बाद ही संभव है |
  10. संयुक्त खातों (Joint Accounts) के मामले में, प्राथमिक खाता धारक (primary account holder) को निवेशक समझा जाता है, जबकि दूसरे हितधारक (second stakeholder) को प्राथमिक खाता धारक का पति/ पत्नी होना चाहिए |
  11. यदि निवेश की गई राशि पर संचित ब्याज प्रति वर्ष 10,000 से अधिक है तो उस पर कर कटौती की जाती है |
  12. संचित ब्याज एक नामित बचत खाते पर जमा किया जाता है, जो  बैंक / पोस्ट ऑफिस जिसमें SCSS खाता बनाए रखा है |
  13. SCSS खाते में निवेश से आयकर अधिनियम, 1961 की धारा 80 C के प्रावधानों के अनुसार Tax की बचत होती है |

senior-citizen-savings-scheme

Senior Citizen Saving Scheme की ब्याज दरें :-

Senior Citizen Saving Scheme की ब्याज दर वित्तीय वर्ष 2016-2017 के लिए प्रतिवर्ष 8.6%  तय की गई है | Senior Citizen Saving Scheme वरिष्ठ नागरिकों को बचत बैंक खातों में कम उपज पर अपनी बचत जमा करने या Mutual Funds पर जोखिम लेने के बजाय अधिक उपज देने वाली और लोकप्रिय बचत Portfolio में निवेश करने का विकल्प प्रदान करती है  |

indian-postal-services-financial-management-2012-15-638

Senior Citizen Saving Scheme के कर लाभ :-

हम में से अधिकांश लोग पैसे बचाने के लिए रणनीतिक निवेश Portfolio में या अन्य सरल उपकरणों के माध्यम से पैसा निवेश करते हैं जिनके मुख्यतः 2 targets होते हैं :-

  1. भविष्य में rainy के दिनों के लिए बचत |
  2. आयकर कि सालाना भुगतान से बचने के लिए |

senior-citizens-savings-scheme

यह योजना हर उस इंसान को आकर्षित करती है जो लाभप्रद कार्यकर्ता है | और उसे करों का भुगतान करने के लिए बाध्य किया जाता है | हालांकि, जब भारत में Senior Citizen Saving Scheme और associated tax implications- की बात आती है तो उसकी  निम्नलिखित हकीकत है :-

  1. यदि निवेश राशि (investment amount) पर प्रति वर्ष ब्याज 10,000 से अधिक होने पर TDS लागू होता है | हालांकि, प्रति वर्ष ब्याज 10,000 से कम होने पर राशि कर से मुक्त होगी |
  2. आयकर अधिनियम, 1961 की धारा 80 C के निवेश प्रावधानों के अनुसार SCSS में जमा की गई सारी राशि में Tax की बचत होती है |

इसलिए, Senior Citizen Saving Scheme उच्च रिटर्न के साथ एक सुरक्षित, Scalable और एक शक्तिशाली Tax saver विकल्प भी  है |

Leave a Reply