राजस्थान सरकार की “भामाशाह योजना” | Rajasthan Bhamashah Yojana

राजस्थान भामाशाह योजना (Rajasthan Bhamashah Yojana):-

वर्ष 2014 में, राजस्थान सरकार ने महिलाओं के सशक्तीकरण के लिए भामाशाह योजना (Bhamashah Scheme) और भामाशाह कार्ड (Bhamashah card) की शुरुआत की थी | इस योजना के अंतर्गत, गरीबी रेखा से नीचे के परिवारों की महिलाओं को direct benefit transfer  के माध्यम से लाभ प्रदान किया जाएगा | इस योजना के तहत लाभार्थी को राशि उनके बैंक खाते में सीधे मिल जाएगी |

भामाशाह कार्ड (Bhamashah card) एक family card है जिसे महिला के नाम पर जारी किया जाएगा क्योंकि उसे परिवार का मुखिया माना जाता है | इसके अलावा, भामाशाह कार्ड (Bhamashah card), birth, death and marriage certificates का दावा करने के लिए अनिवार्य होगा | हालांकि, यह कार्ड लाभार्थियों के लिए सबसे बड़ी बाधा बन गया है क्योंकि वे प्रधान मंत्री आवास योजना-ग्रामीण/Pradhan Mantri Awas Yojana-Gramin (PMAY-G), मुख्यमंत्री राजश्री योजना (Mukhyamantri Rajshri Yojana) जैसी योजनाओं का लाभ प्राप्त करने से वंचित रह रहे हैं |

प्रारंभ में, योजनाओं का लाभ लेने के लिए भामाशाह कार्ड (Bhamashah card) को अनिवार्य नहीं किया गया था लेकिन राज्य सरकार ने जून 2017 में इसे अनिवार्य कर दिया | इसलिए, कार्ड के बिना वाले लाभार्थियों को बाहर रखा गया है | इसके अलावा, भामाशाह योजना के तहत, पात्र लाभार्थी 50,000 रुपये की सीमा से ज्यादा का ऋण नहीं ले सकता | इसलिए, प्राधिकारी PMAY-G योजना के तहत दूसरी किस्त जारी नहीं कर सकते, जो कि 50,000 रुपये से अधिक है |

भामाशाह योजना और भामाशाह कार्ड :-

मुख्यमंत्री राजश्री योजना (Mukhyamantri Rajshri Yojana) को बालिका शिक्षा को प्रोत्साहित करने और स्त्री भ्रूण हत्या करने वालों को गिरफ्तार करने के लिए वर्ष 2016 में, शुरू किया गया था | इस योजना के तहत, एक लड़की की नई मां बनने वाली महिला को एक वर्ष के पूरा होने पर 2,500 रुपये प्रदान किए जाएंगे | इसके अलावा, यदि सभी टीकाकरण करवाए जाते हैं, तो 2,500 रुपये की दूसरी किस्त भी मां के खाते में स्थानांतरित की जाएगी |

भामाशाह कार्ड (Bhamashah card) की अनुपस्थिति में, बाड़मेर जिले से केवल 12.55% लाभार्थियों को दूसरी किस्त मिल सकी | इसके अतिरिक्त, बाड़मेर जिले के हजारों लाभार्थी PMAG और Rajshri योजनाओं के तहत लाभ प्राप्त करने से वंचित हैं |

आंकड़ों के अनुसार, जून 2016 से अक्टूबर 2016 के बीच लगभग 9,206 लाभार्थियों को पहली किस्त प्राप्त हुई | लेकिन सरकार ने जून 2017 में कार्ड को अनिवार्य कर दिया था | क्योंकि पहली किश्त का लाभार्थी दूसरे किस्त का दावा नहीं कर पा रहा था क्योंकि उनके पास कार्ड नहीं था |

आंकड़ों के अनुसार भामाशाह कार्ड (Bhamashah card) की अनुपस्थिति में, स्वास्थ्य विभाग ने बाड़मेर जिले के 8,050 पंजीकृत लाभार्थियों को दूसरी किस्त जारी नहीं की | सिर्फ 1,156 यानी (12.55%) लोग ही दूसरी किस्त प्राप्त करने में सफल रहे हैं |

PMAY-Gramin :-

Concerned Authority लोगों से अनुरोध कर रही है कि वे भमशाह कार्ड (Bhamashah card) के लिए अपना नाम enroll करायें ताकि वे प्रदत्त लाभ उठा सकें | इसके अलावा, PMAY-G एक आवास योजना है जो प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा जून 2015 में शुरू की गई थी ताकि उचित स्वच्छता और बिजली आपूर्ति के साथ सस्ती दरों पर घर उपलब्ध कराया जा सके |

भामाशाह खाते में, upper credit limit 50,000/- रुपये है  यही कारण है कि अधिकारियों ने 60,000/- रुपये की दूसरी किस्त जारी नहीं की | इसलिए, केंद्र सरकार ने दूसरी किस्त की राशि को वर्तमान वित्तीय वर्ष के लिए 60,000/- रुपए से कम कर 48,000/- रुपए करने का आदेश दिया है |

इसके अलावा, सरकार ने अपने ‘Jan Dhan’ खाते को सामान्य खाते में बदलने के लिए पिछले साल के लाभार्थियों से अनुरोध किया है | हालांकि, राज्य सरकार ने सूचित किया है कि वे भामाशाह योजना खाते को एक सामान्य खाते में परिवर्तित करने को तैयार नहीं हैं | इस कारण से, PMAY-G के लाभार्थियों को अब दूसरी किस्त से वंचित किया जाता है क्योंकि उनके खाते भामाशाह योजना के तहत हैं |

बाड़मेर जिला परिषद के मुख्य कार्यकारी अधिकारी ने सुझाव दिया है कि लाभार्थी अपने किसी दूसरे खाते का ब्योरा दें ताकि उन्हें 48000/- रुपये की दूसरी किस्त जारी की जा सकें |

 

Leave a Reply