राहुल गांधी का Mount Carmel College दौरा|

कांग्रेस पार्टी के उपाध्यक्ष/Vice President राहुल गांधी दिनांक 25.11.2015 दिन बुधवार को बैंगलोर के एक महिला प्रधान महाविद्यालय Mount Carmel College में वहाँ की द्वितीय और तृतीय वर्ष की छात्राओं से रूबरू हुए|

यह यात्रा उनकी देश भर के कॉलेजों और विश्वविद्यालयों की यात्राओं की श्रृंखला की एक शुरुआत है | यहाँ पहले उन्होंने छात्राओं को सम्बोधित किया उसके बाद सवाल जबाब का दौर चालू हुआ पहले राहुल गांधी ने छात्राओं से कुछ सवाल पूछे :-

1 राहुल गांधी ने छात्राओं से पूँछा “क्या स्वच्छ भारत अच्छे से काम कर रहा है ?”
छात्राएं हां और ना में बटीं हुई दिखाई दी |
राहुल गांधी ने दुबारा अपना सवाल दोहराया पर उन्हें छात्राओं से मिश्रित जवाब ही मिला |

2 राहुल गांधी ने छात्राओं से दूसरा सवाल पूँछा “क्या मेक इन इंडिया से फायदा हुआ” ?
छात्राओं ने जवाब में कहा “हाँ” |

3 राहुल गांधी ने छात्राओं से तीसरा सवाल पूँछा “क्या देश में यंगस्टर्स को जॉब मिल रही है” ?
छात्राओं ने इसके जवाब में भी कहा “हाँ”|

उसके बाद छात्राओं ने राहुल गांधी से सवाल किये:-

1 एक छात्रा ने सवाल किया कि बिहार में लालू जी कि पार्टी के साथ आपकी पार्टी ने गठबंधन किया है। क्या आपको लगता है कि ऐसे भ्रष्टाचार खत्म हो सकता है ?
जवाब में राहुल गांधी ने कहा कि बिहार को लेकर हमारी बस यही सोच थी कि किसी तरह बीजेपी को यहाँ सरकार बनाने रोकना है | यही वजह थी कि हम सब ने मिलकर काम किया और हम अपने प्रयास में सफल भी हुए ।आज नीतीश कुमार बिहार के नए मुख्यमंत्री हैं। बिहार में स्वच्छ सरकार रहे यही हमारा प्रयास होगा | पार्टी के उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादवजी ने अपने बयान में कहा भी है कि वे भ्रष्टाचार पर कोई सहिष्णुता नहीं अपनाएंगे।

2 छात्राओं का दूसरा सवाल था कि इरोम शर्मिला जो मणिपुर में पिछले 10 साल से अधिक समय से अनशन पर है उनके बारे में आपका क्या कहना है ?
जवाब में राहुल गांधी ने बस यही कहा कि सभी से बात होनी चाहिए बात करने में कोई नुकशान नही है |

3 आमिर खान से जुड़े ताजा विवाद का जिक्र करते हुए राहुल ने अपने भाषण में कहा कि अभिनेता के बयान कि देश में धार्मिक असहिष्णुता/Intolerance  बढ़ रही है पर आक्रामक प्रतिक्रिया से चिंतित था । उन्होंने छात्रों को बताया कि भारत का विचार जियो और जीने दो का है लेकिन भाजपा/BJP और आरएसएस/RSS की मानसिकता एक भारतीय को दुसरे से लड़ाना है ।

उन्होंने यह भी कहा कि “कांग्रेस एक भ्रष्ट पार्टी नहीं है ” और यह उन कुछ राजनीतिक संगठनों में से एक है जो ” आंतरिक लोकतंत्र” में विश्वास करते थे|उन्होंने ने यह भी कहा कि हम युवा और शिक्षित महिलाओं को कांग्रेस में शामिल होने के लिए प्रोत्साहित करने का प्रयास कर रहे हैं | हम कांग्रेस पार्टी में अधिक से अधिक युवाओं को शामिल करना चाहते हैं |

प्रधानमंत्री आरोप लगाते हुए उन्होंने कहा कि वे एक तानाशाह/Dictator की भूमिका निभाते हैं संसद में किसी भी बहस में वे अपने आप को शामिल नही करते हैं | यहां तक ​​कि अपने ही कैबिनेट के परामर्श के बिना नीतियों के माध्यम से आगे बढते जा रहे हैं |

प्रधानमंत्री जी को एहसास होना चाहिए कि भारत जैसे बड़े देश में वो अकेले शासक नहीं है । उन्होंने कहा कि विपक्ष के अलावा वे अपनी ही पार्टी से परामर्श करते । मनमोहन सिंह जब प्रधानमंत्री थे तो उन्होंने विपक्ष सहित हर किसी से बात की थी। संभाषण इस देश की समस्याओं का एकमात्र समाधान है, लेकिन मोदी जी कोई बातचीत करना ही नहीं चाहते है।

उन्होंने नगा उग्रवादी समूहों/Naga militant groups के साथ केंद्र सरकार द्वारा हस्ताक्षरित समझौते की आलोचना की और यह भी कहा कि राज्य स्तर पर हितधारकों/stake holders के परामर्श के बिना इस तरह के कदम कैसे उठाये जा सकते है ।

घटना के बाद संवाददाताओं से बातचीत में राहुल ने कहा कि हमारे पास हम मुद्दों की एक बहुत बड़ी संख्या है जिसे हम संसद/Parliament में उठाना चाहते हैं। असहिष्णुता/Intolerance जो पिछले कुछ हफ्तों से हो रही है और प्रधानमंत्री की चुप्पी एक मुद्दा है| भाजपा शाषित राज्यों में भ्रष्टाचार एक मुद्दा है| जीएसटी/GST भी एक मुद्दा है |

loading...

Leave a Reply