प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना-Pradhan Mantri Suraksha Bima Yojana PMSBY

जैसा हमने अपने पहले लेख जन धन से जन सुरक्षा में बताया था कि सरकार ने वर्ष 2015 तीन महत्वकांक्षी योजनाएं शुरू कि थी:-

PMG

  1. प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना- Pradhan Mantri Jeevan jyoti Bima Yojana (PMJJBY)
  2. प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना- Pradhan Mantri Suraksha Bima Yojana (PMSBY)
  3. अटल पेंशन योजना- Atal Pension Yojana (APY)

इन योजनाओं में से प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना-Pradhan Mantri Suraksha Bima Yojana (PMSBY) के बारे में इस लेख में विस्तृत जानकारी दी जाएगी |

प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना-Pradhan Mantri Suraksha Bima Yojana (PMSBY):-

pradhan-mantri-suraksha-bima-yojna-small

देश की आबादी का एक बड़ा हिस्सा बिना किसी आकस्मिक बीमा कवर के है| इसलिए लोगों को आकस्मिक बीमा कवर देने के उद्देश्य से प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना-Pradhan Mantri Suraksha Bima Yojana ( PMJJBY ) को शुरू किया गया था |इस योजना के द्वारा मात्र 12 रुपये की एक अत्यंत सस्ती प्रीमियम पर लोगों को आकस्मिक बीमा कवर दिया जा रहा है |यह योजना 18-70 वर्ष के आयु वर्ग के लोगों के लिए उपलब्ध है|वो लोग इस योजना में शामिल हो सकते है जिनके पास एक बचत बैंक खाता हो और ऑटो डेबिट सक्षम करने के लिए अपनी सहमति दे दी हो |

इस योजना के तहत आकस्मिक उपलब्ध मौत और स्थायी पूर्ण विकलांगता के लिए जोखिम कवरेज एक वर्ष के लिए 2 लाख रुपए का है | स्थायी आंशिक विकलांगता के लिए जोखिम कवरेज एक वर्ष के लिए 1 लाख रुपए का है | जिसकी अवधि 1 जून से बढाकर 30 नवंबर
कर दी गयी |यह सार्वजनिक क्षेत्र की साधारण बीमा कंपनियों  या किसी अन्य सामान्य बीमा कंपनियों की पेशकश है|इसमें वो कंपनियां शामिल हैं जो समान शर्तों के साथ आवश्यक उत्पाद की पेशकश करने के लिए और बैंकों के साथ टाई अप करने के लिए तैयार हैं |भाग लेने वाले बैंक भाग लेने वाले ग्राहकों की ओर से मास्टर पॉलिसी धारक होते हैं | भाग लेने वाले बैंक की जिम्मेदारी होती है की  वह विकल्प के अनुसार खाता धारकों से या ऑटो डेबिट प्रक्रिया के द्वारा नियत तारीख से पहले उनकी उचित वार्षिक प्रीमियम की क़िस्त ले ले और इस राशि को नियत तारीख से पहले बीमा कंपनी को स्थानांतरित कर दे |

pmsby

किसी भी बिंदु पर इस योजना से बाहर निकलने वाले व्यक्ति भविष्य में शर्तों के अधीन वार्षिक प्रीमियम का भुगतान करके इस योजना में  फिर से शामिल हो सकते हैं|इसके अलावा दावेदारों को एक सरल और परेशानी मुक्त दावा निपटान का अनुभव देने के लिए प्रशासन ग्राहक अनुकूल प्रक्रिया का उपयोग करती है |

इस योजना का लाभ एक बैंक खाता धारण करने वाले हर अबीमाकृत व्यक्ति को मिले यह सुनिश्चित करने के लिए व्यापक स्तर पर इस सामाजिक सुरक्षा उपाय का इलेक्ट्रॉनिक मीडिया , रेडियो , पोस्टर, समाचार पत्रों और  विज्ञापनों के माध्यम से प्रचार-प्रसार किया गया |नामांकन पत्रों को व्यापक रूप से वितरित किया गया| बहुप्रचारित नामांकन शिविरों का आयोजन बैंकों और बीमा कंपनियों द्वारा किया गया | इस योजना में बड़े पैमाने पर नामांकन को आकर्षित करने के लिए State Level Bankers’ Committee(SLBC) के सह समन्वयकों, राज्य और जिला स्तरीय नोडल अधिकारियों, एजेंटों और बैंकिंग संवाददाताओं को संघटित किया गया ताकि पूरी तरह से इन चैनलों का उपयोग किया जा सके|

151011230

नामांकन के प्रारंभ होने की तारीख 01 मई से प्रधानमंत्री द्वारा इस योजना के शुभारंभ की तारीख 9 मई तक 4.42 करोड़ अंशधारकों ने PMJJBY योजना में अपना पंजीकरण कराया |जिसके परिणामस्वरूप एक दावेदार एक दुर्घटना के दावे के मामले में संपर्क कर सके |

सरकार एक आईटी सक्षम , वेब आधारित प्रणाली स्थापित करने की प्रक्रिया में है| जिससे दावेदारों को दावे की प्रगति और स्थिति के बारे में
समेकित रूप से सूचित किया जा सके |

दावों का निपटान बीमाकृत व्यक्ति के बैंक खाते द्वारा या खाताधारक की मृत्यु के मामले में  नामांकित व्यक्ति द्वारा किया जा सकता है |

नामांकन प्रक्रिया 30 नवंबर तक बिना रुके जारी थी । 31 मई से पॉलिसी शुरू होने की तारीख की पूर्व संध्या पर ही PMSBY योजना के तहत 7.29 करोड़ लोगों ने अपना नामांकन कर लिया था|

नामांकन के पहले चरण की समाप्ति के तुरंत बाद बाद बैंकों ने नामांकन कर्ताओं के खातों में प्रीमियम की ऑटो डेबिट(Auto Debit) की प्रक्रिया और बीमा कंपनियों को प्रीमियम का प्रेषण करना शुरू कर दिया है| अब तक प्रीमियम में खातों का लगभग 65% डेबिट कर दिया गया है|

नामांकन 30  नवंबर तक खुला था । 18 जून 2015 तक योजना  के तहत 7.68 करोड़ लोगों ने अपना दाखिला करवा लिया था |

इस योजना के द्वारा वित्तीय समावेशन के लक्ष्य को प्राप्त करने की उम्मीद है| किसी भी अप्रत्याशित और दुर्भाग्यपूर्ण दुर्घटना के मामले में
समाज के कमजोर वर्गों के लिए बीमा तथा उनके या उनके परिवार की वित्तीय सुरक्षा, को सुनिश्चित करना है |

loading...

Leave a Reply