मध्य प्रदेश सरकार का आनंद मंत्रालय (Anand Mantralaya)

आनंद मंत्रालय (Ministry of Happiness Madhya Pradesh) :

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने उज्जैन में सिंघस्थ कुम्भ के समापन समारोह में अर्थात 14 मई 2016 को अपने सम्बोधन में ये ऐलान किया था की वे मध्य प्रदेश में आनंद मंत्रालय (ministry of happiness Madhya Pradesh) का गठन करेंगे |यह मंत्रालय भारत की संस्कृति और दुनिया भर के विचारकों ने जो रास्ते सुझाए हैं उन रास्तों पर चलने के तरीकों को ढूंढेगा और उनको क्रियान्वित करने के लिए रूपरेखा बनाएगा |

13557741_1025506780867121_6102999420731273576_n

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के शब्दों में ” प्रदेश की जनता के चेहरे मुस्कुराते रहें | जिंदगी बोझ नहीं, वरदान लगे | ” इसके लिए प्रदेश में आनंद मंत्रालय का गठन किया जा रहा है | मुख्यमंत्री द्वारा प्रदेश की जनता के लिए शुरू की गयी यह पहल सराहनीय है किन्तु आज प्रदेश के अलग-2 समूहों या वर्गों के लिए आंनद के मायने अलग-2 हैं |

आंनद के मायने :

  • प्रदेश का किसान वर्ग  : प्रदेश का किसान वर्ग जो समाज का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा है | उसे आनंद मिलता है उसकी अच्छी फसल से और अच्छी फसल के लिए महत्वपूर्ण है अच्छी खाद, कीटनाशक, सिंचाई के साधन | इन सभी साधनों के अलावा भी एक महत्वपूर्ण चीज़ है वो है फसलों का सही दाम | अतः प्रदेश के किसान वर्ग के लिए आंनद मंत्रालय तो वो है जो उनके हित के लिए कदम उठाये जिससे उनको फसल की अच्छी उपज में मदद मिले और उनकी फसल का सही मूल्य उन्हें मिले |

Drought_4C

  • प्रदेश का युवा वर्ग : प्रदेश का दूसरा सबसे महत्वपूर्ण वर्ग युवा वर्ग | उसे आनंद मिलता है उच्च स्तरीय शिक्षा और तदुपरांत रोजगार या स्वरोजगार से जिससे वह अपने परिवार का पालन पोषण कर सके | अतः प्रदेश के युवा वर्ग के लिए आंनद मंत्रालय तो वो है जो उनके हित के लिए कदम उठाये जिससे उनको उच्च स्तरीय शिक्षा और तदुपरांत रोजगार व स्वरोजगार की प्राप्ति हो |

Student-ResourcesSmall_0

  • प्रदेश का Unreserved वर्ग : समाज में आज आरक्षण एक गम्भीर समस्या बनता जा रहा है | आरक्षण की ऐसी होड़ लगी है की समाज के सक्षम वर्ग भी आरक्षण की मांग करने लगे है | अतः प्रदेश के Unreserved वर्ग के लिए आंनद मंत्रालय तो वो है जो उनके हित के लिए कदम उठाये अर्थात आरक्षण की वजह से प्रदेश की प्रतिभा रोजगार से न वांछित रह जाये और आरक्षण उन्हें ही मिले जो सच में इसके हकदार हैं |

अर्थात आनंद मंत्रालय अगर इस दिशा मे कार्य करेगा तो निसन्देह इस मंत्रालय से राज्य की दिशा और दशा मे व्यापक सुधार और परिवर्तन आएगा। अगर प्रदेश की जनता प्रसन्न और आननंदित होगी तो हमारा प्रदेश देश का ही नहीं विश्व की सबसे खुशहाल प्रदेश होगा ।

Keyword: ministry of happiness Madhya Pradesh, anand Mantralaya

loading...

Leave a Reply