तेलंगाना सरकार भैंस खरीदने पर किसानों को subsidy दे रही है | Ksheera Viplavam

Ksheera Viplavam (Milkrevolution) :-

तेलंगाना सरकार ने किसानों को भैंस खरीदने पर subsidy देने का निश्चय किया है | अधिसूचना के अनुसार, सरकार पूरे राज्य में दूध क्रांति /Milkrevolution  (Ksheera Viplavam) शुरू करने के लिए डेयरी क्षेत्र के विकास के लिए एक व्यापक योजना तैयार करने की योजना बना रही है |

अधिसूचना के अनुसार भैंस खरीदने के लिए सामान्य वर्ग के किसानों को 50 प्रतिशत सब्सिडी प्रदान करेगी जबकि अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति समुदाय के किसानों को 75 प्रतिशत तक सब्सिडी प्रदान की जाएगी | यह योजना कई डेयरी विकास समितियों (dairy development societies) के माध्यम से कार्यान्वित की जाएगी |

डेयरी विकास समितियां (dairy development societies) :-

इस योजना के तहत नीचे दी गई डेयरी समितियों की सूची को सर्वोच्च प्राथमिकता दी जाएगी |

  • Vijaya Dairy Development Society
  • Mulkanur Dairy Development Society
  • Nalgonda and Rangareddy Districts Dairy Development Societies
  • Karimnagar Dairy Development Societies

राज्य सरकार ने दूसरे डेयरी किसानों की मांग को भी 4/- रुपये प्रति लीटर प्रोत्साहन के रूप में स्वीकार करेगी | इससे पहले, प्रोत्साहन की मांग केवल विजया डेयरी डेवलपमेंट सोसाइटी (Vijaya dairy development society) के मामले में ही स्वीकार की जाती थी | 4/- रुपये प्रति लीटर की प्रोत्साहन की स्वीकृत मांग 24 सितंबर 2017 से लागू की गई है |

 

राज्य की 1 करोड़ लीटर की मांग के मुकाबले दूध उत्पादन का प्रतिशत बहुत कम है | राज्य भर की सभी डेयरी विकास समितियों को एक साथ रखा गया हैं, और लगभग 7 लाख लीटर उत्पादन किया जा रहा है | तेलंगाना राज्य को कर्नाटक राज्य 6 लाख लीटर, आंध्रप्रदेश राज्य 4 लाख लीटर और गुजरात राज्य 2 लाख लीटर की आपूर्ति कर रहा है |

इसलिए, राज्य सरकार डेयरी क्षेत्र के लिए एक व्यापक नीति तैयार करने की योजना बना रही है जिसके माध्यम से राज्य में दुग्ध उत्पादन बढ़ाया जा सके और राज्य को अन्य राज्यों पर आपूर्ति के लिए निर्भर नहीं होना पड़े |

 

Leave a Reply