Kiosk Banking क्या है | यदि आप खुद का Kiosk Banking शुरू करना चाहते हैं तो जरूर पढ़ें |

Kiosk Banking :-

Kiosk Banking भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा गांवों या अन्य दूरदराज के क्षेत्रों में रहने वाले लोगों के लिए शुरू की गई एक पहल है, जो अपने इलाके में एक बैंक शाखा की अनुपलब्धता के कारण बैंकिंग सेवाओं से वंचित रह जाते हैं | ऐसी व्यवस्था से, व्यक्ति को बैंकिंग सेवाओं का लाभ उठाने के लिए बैंक जाने की आवश्यकता नहीं है | इसके बैंकों के गांव पहुँचने की जरूरत नही है जहां व्यक्ति के लेन-देन कर सकते हैं |




Kiosk Banking वित्तीय समावेशन (financial inclusion) की दिशा में उठाया गया एक महत्वपूर्ण कदम है | वित्तीय समावेशन (financial inclusion) का मतलब समाज के कमजोर वर्गों या कम आय वाले समूहों को सस्ती कीमत पर वित्तीय सेवाओं का उपयोग करने के लिए सक्षम बनाना है | Kiosk गांवों में स्थापित small internet-enabled booths है जहां ग्राहक बुनियादी बैंकिंग सेवाओं (basic banking services) का लाभ उठाने के लिए आते हैं |

Kiosk के कामकाज के पीछे का विचार यह है कि इसके माध्यम से निजी (private), सार्वजनिक (public) और सहकारी (corporate) क्षेत्रों के बैंकों का समर्थन किया जाना चाहिए है | यह बैंक और ग्राहक के बीच एक संपर्क बिंदु (touch point) के रूप में कार्य करता है | जहां deposits, withdrawals, remittances के अलावा micro-credit, insurance और overdraft services के रूप में बैंकिंग सेवाएं दी जा सकती हैं |

यह एक retailer द्वारा ग्राहक की तस्वीरें ले कर, उंगलियों के निशान ले कर और अन्य आवश्यक जानकारी  के माध्यम से एक ग्राहक के लिए no-frills bank account खोल सकते हैं | No Frills Account ऐसा खाता है जिसे खोलने के लिए ग्रामीणों को कोई न्यूनतम राशि जमा नहीं करनी पड़ती है | इस प्रक्रिया को आगे बढ़ाने के लिए अपेक्षित दस्तावेजों के साथ इन विवरणों बैंक की शाखा को भेजा जाता है | एक बार जब खाता बन जाता है, तो ग्राहक internet enabled kiosk branch के माध्यम से कभी भी पैसा withdraw or deposit कर सकते हैं।

SBI Kiosk Banking से जुड़ी सारी बातें | आप भी कर सकते हैं कियोस्क बैंकिंग की शुरुआत जानिए कैसे ?

Kiosk Banking की सुविधाएँ :-

भारत में सबसे पहले वर्ष 2006 में रिजर्व बैंक ऑफ़ इंडिया (RBI) द्वारा भारतीय स्टेट बैंक (SBI) के माध्यम से Kiosk Banking की शुरुआत की गई थी | जो की काफी सफल रहा | इसके बाद बैंक ऑफ़ इंडिया (BOI) ने Kiosk Banking शुरू की | Kiosk Banking अपने ग्राहकों को निम्न सुविधाएँ देता है :

  • खाता खोलना (Account Open)
  • नगद जमा (Cash Deposit)
  • नगद निकालना (Cash Withdrawal)
  • RD खाता खोलना (RD Account Open)
  • रुपयों का हस्तांतरण (Money Transfer)
  • Passbook
  • Cheque Book

Kiosk Banking का उपयोग :-

देश के छोटे आबादी वाले गांव और दूरदराज के क्षेत्र जहाँ बैंक अभी तक नहीं पहुंचे हैं वहाँ इन छोटे-2 Kiosk Booth को स्थापित किया जा सकता है | जिससे हर व्यक्ति बुनियादी बैंकिंग सेवाओं (basic banking services) का लाभ उठा सके | निजी (private), सार्वजनिक (public) और सहकारी (corporate) क्षेत्रों के सभी बैंक अपना Kiosk Center खोल सकते हैं | इन में बैंक खाता खुलवाने, पैसा जमा (Cash Deposit) करना और पैसा निकालने (Cash Withdraw) के साथ ग्राहक ऑनलाइन भुगतान (Online Payment) भी कर सकते हैं |


  • चालान भर सकते हैं |
  • ऑनलाइन भुगतान (Online Payment) |
  • Railway Ticket Booking
  • Hotel Booking

SBI Kiosk Banking से जुड़ी सारी बातें | आप भी कर सकते हैं कियोस्क बैंकिंग की शुरुआत जानिए कैसे ?

 

loading...

Comments

  1. By Abhishek Singh

    Reply

    • By Piyush

      Reply

      • By Devendra pawar

        Reply

  2. By 9905277995

    Reply

    • By Piyush

      Reply

Leave a Reply