8 मार्च – अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस (International Women’s Day)

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस (International Women’s Day) :-

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस (8 मार्च) महिलाओं के सामाजिक, आर्थिक, सांस्कृतिक और राजनीतिक उपलब्धियों के जश्न का दिन है | यह दिन लैंगिक समानता (gender parity) को तेज करने के लिए भी महत्वपूर्ण है |  इस दिन का जश्न भिन्न-2 क्षेत्रों में भिन्न-2 होता है | आम तौर पर, पूरी महिला वर्ग की सराहना कर उन्हें सम्मान प्रदान कर मनाया जाता है | महिलाऐं समाज का प्रमुख हिस्सा हैं और आर्थिक, राजनीतिक और सामाजिक गतिविधियों में एक बड़ी भूमिका निभाती हैं | अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस उनकी सभी उपलब्धियों को याद करने और उनकी सराहना करने के लिए मनाया जाता है |

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस क्यों मनाया जाता है :-

सबसे पहले महिला दिवस को 28 फरवरी, 1909 में New York में आयोजित किया गया था | इसे  1908 की International Ladies Garment Worker’s Union की हड़ताल की याद में अमेरिका की Socialist Party द्वारा आयोजित किया गया था | द्वारा आयोजित किया गया था |

इसके बाद अगस्त , 1910 में कोपेनहेगन में अंतर्राष्ट्रीय महिला सम्मेलन (International Women’s Conference) द्वारा आयोजित Socialist Second International की बैठक में अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस को वार्षिक उत्सव के रूप में मनाने पर जोर दिया गया | अंत में, अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस को वार्षिक उत्सव के रूप में अमेरिकी समाजवादियों और जर्मन Socialist Luise Zietz के समर्थन से स्थापित किया गया था | हालांकि, तब बैठक में किसी विशेष तिथि का निर्णय नहीं लिया गया था | इस उत्सव में सभी महिलाओं के समान अधिकारों को बढ़ावा देने का निर्णय लिया गया था |

यह पहली बार ऑस्ट्रिया में लोगों के लाखों लोगों द्वारा 19 मार्च 1911 को मनाया गया  | जर्मनी, डेनमार्क और स्विट्जरलैंड में विविधता प्रदर्शन, महिला परेड, बैनर और अन्य कई तरह के कार्यक्रमों को आयोजित किया गया था | मतदान की मांग, सार्वजनिक पद धारण करने और रोजगार में लैंगिक भेदभाव को दूर करने जैसे कई मुद्दों को  महिलाओं द्वारा सामने रखा गया था |

अमेरिका में इसे हर साल फरवरी के अंतिम रविवार को राष्ट्रीय महिला दिवस के रूप में  मनाया जाता था | पहली बार 1913 में रूसी महिलाओं द्वारा इसे फरवरी के अंतिम रविवार को  मनाया गया था | महिलाओं (Australian Builders Labourers Federation के सदस्य) द्वारा एक रैली 1975 में Sydney में आयोजित की गई थी |

1914 में अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस समारोह (International women’s day) 8 मार्च को आयोजित किया गया था | तब से, यह हर जगह 8 मार्च को मनाया जाने लगा | 1914 में जर्मनी में समारोह का आयोजन विशेष रूप से महिलाओं को वोट देने के अधिकार के लिए किया गया था | प्रथम विश्व युद्ध के अंत के साथ-साथ रूसी भोजन की कमी के कारण वर्ष 1917 के उत्सव के दौरान Saint Petersburg की महिलाओं ने “रोटी और शांति” की मांग की | धीरे-धीरे, यह कई साम्यवादी और समाजवादी देशों जैसे चीन में 1922 से, और स्पेनिश कम्युनिस्टों में 1936 से मनाया जाने लगा |

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस कैसे मनाया जाता है :-

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस (International women’s day) एक विशेष कार्यक्रम है जिसे 8 मार्च को दुनिया भर के लोगों द्वारा व्यापारियों, राजनीतिज्ञों, सामुदायिकों, शैक्षिक संस्थानों, अन्वेषकों टीवी हस्तियों सहित महिलाओं द्वारा मनाया जाता है | इसे महिला कार्यक्रम, सेमिनार, महिला परेड, सम्मेलनों, बैनर, वाद-विवाद, प्रस्तुतीकरण, भाषण, प्रतिस्पर्धी गतिविधियों, लंच, महिलाओं के मुद्दों, रात्रिभोज, अन्य महिलाओं के अधिकार से सम्बंधित गतिविधियों जैसे विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन करके मनाया जाता है | महिलाओं के लिए उनके अधिकारों, योगदानों, शिक्षा के महत्व, कैरियर के अवसरों आदि के बारे में जागरुकता बढ़ाने के लिए इसे मनाया जाता है |

महिला शिक्षकों को उनके छात्रों द्वारा अभिभावकों को उनके बच्चों द्वारा , बहनों को उनके भाई द्वारा , बेटी को उनके आदि द्वारा उपहार दिया जाता है | अधिकांश व्यापारिक संगठन, सरकारी और गैर सरकारी कार्यालय, शैक्षणिक संस्थान इस दिन बंद होते हैं | आम तौर पर, लोग इस समारोह को मनाते समय purple ribbon पहनते हैं |

भारत में अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस समारोह कैसे मनाया जाता है :-

महिलाओं के अधिकारों के बारे में जागरुकता बढ़ाने के लिए 8 मार्च को बड़े उत्साह के साथ भारतीयों द्वारा अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस समारोह को मनाया जाता है | इस समारोह का उत्सव महिलाओं के अधिकारो और समाज में उनकी जगह के बारे में वास्तविक संदेश का  वितरण करने में एक महान भूमिका निभाता है | यह महिलाओं के सामाजिक मुद्दों को हल करके महिलाओं की जीवन शैली को बढ़ावा देता है |

Leave a Reply