GST E-Way Bill के लिए ऑनलाइन पंजीकरण कैसे करें?

GST E-Way Bill:-

GST E-way bill registration के लिए केंद्र सरकार ने एक नया E-way Bill portal शुरू किया है | GST के देश में लागू होने के बाद अब देश में माल की आवाजाही के लिए E-way bill की आवश्यकता होगी | अब वो व्यापारी, जो पूरे देश में या किसी भिन्न राज्य में माल भेजते है या लेते हैं, वह ऑनलाइन प्रक्रिया के माध्यम से E-way bill पंजीकृत कर सकते हैं | व्यापारी आधिकारिक वेबसाइट www.ewaybill.nic.in के माध्यम से नामांकन कर सकते हैं |

पोर्टल www.ewaybill.nic.in

को जनवरी 2018 के पहले ही सप्ताह के दौरान शुरू किया गया है | केंद्र सरकार, 1 फरवरी 2018 से, इस अंतर राज्यीय E-way Bill को अनिवार्य बनाने जा रही है | इसके अलावा, सरकार 1 जून 2018 से इस inter state और intra state E-way bill को अनिवार्य बनाने जा रही है |

50,000/- रुपए या उससे अधिक के सामानों को ले जाने के लिए की E-way Bill पंजीकरण आवश्यक है | सभी transporters जो एक राज्य से दूसरे राज्य में (50,000/- रुपये या इससे अधिक) का सामान ले रहे हैं उन्हें हर बार E-way Bill को पंजीकृत कराना होगा |

अब तक 10 राज्यों कर्नाटक, राजस्थान, उत्तराखंड, केरल, हरियाणा, बिहार, महाराष्ट्र, गुजरात, सिक्किम, झारखंड ने पहले ही GST Network (GSTN) के माध्यम से E-way Bill का उपयोग करना शुरू कर दिया है | इस पोर्टल को National Informatics Center (NIC) द्वारा तैयार किया गया है |

E-Way Bill कैसे Register करें:-

  • सर्वप्रथम आवेदक को आधिकारिक वेबसाइट www.ewaybill.nic.in पर जाना होगा |

  • इसके बाद Homepage पर, दाईं ओर स्थित “e-Way Bill Registration” लिंक पर क्लिक करें |

  • उपरोक्त लिंक पर क्लिक करने पर आपके सामने एक page open होगा |

  • उपरोक्त page पर GSTN दर्ज करें और नीचे दिए गए captcha box में captcha डाल कर Go button पर क्लिक करें |

व्यापारी Enrollment कैसे करें:-

  • सर्वप्रथम आवेदक को आधिकारिक वेबसाइट www.ewaybill.nic.in पर जाना होगा |
  • इसके बाद Homepage पर, दाईं ओर स्थित “Enrolment for Transporters” लिंक पर क्लिक करें |

  • उपरोक्त लिंक पर क्लिक करने पर आपके सामने एक page open होगा |

  • तदनुसार, उम्मीदवारों को पूरे विवरण के साथ Enrollment फ़ॉर्म भरना होगा |
  • अंत में, उम्मीदवारों को “Submit” बटन पर क्लिक करना होगा |

यह E-way Bill “एक राष्ट्र, एक कर, एक बाजार” (One Nation, One Tax, One Market) के सिद्धांत पर आधारित है | VAT Authorities ने पहले से ही उन सभी व्यवसाइयों / डीलरों को मुद्रित पुस्तिका जारी की है जो नियमित रूप से करों का भुगतान कर रहे हैं | तदनुसार, केंद्र सरकार 1 जून 2018 से इस inter state और intra state E-way bill को अनिवार्य बनाने जा रहा है |

 

Leave a Reply

%d bloggers like this: