अरुणाचल प्रदेश सरकार की “दुलारी कन्या योजना” के बारे में जानें

दुलारी कन्या योजना (Dulari Kanya Yojana) :-

शिशु मृत्यु दर (Infant mortality) भारत के कुछ पिछड़े क्षेत्रों में हमेशा से एक अहम मुद्दा रहा है | भारत के उत्तर-पूर्वी राज्य अरुणाचल प्रदेश में शिशु मृत्यु दर (Infant mortality) बहुत अधिक है |

केंद्र सरकार के साथ ही राज्य सरकार ने राज्य में स्थिति को बदलने के लिए सक्रिय कदम उठाए हैं |अरुणाचल प्रदेश में शुरू की गई “दुलारी कन्या योजना” के तहत स्वास्थ्य विभाग शिशु मृत्यु दर (Infant mortality) की बढ़ती संख्या पर अंकुश लगाने की कोशिश करेगा |

इस योजना की घोषणा देश के 68 वें गणतंत्र दिवस (Republic Day) के अवसर पर राज्य के राज्यपाल V Shanmuganathan द्वारा की गई थी |




दुलारी कन्या योजना की मुख्य विशेषताएं :-

गरीबी और शिशुओं के साथ ही माताओं के लिए पर्याप्त स्वास्थ्य सुविधाओं की कमी बच्चों की उच्च मृत्यु दर (high mortality rate) के दो मुख्य कारण हैं | “दुलारी कन्या योजना” इन दो समूहों के परिरक्षण की भूमिका निभाएगी |

बच्चों की भलाई सुनिश्चित करने के लिए उन्हें  20,000 रुपये की एक मुश्त राशि प्रदान की जाएगी | साथ ही ग्रामीण लोगों में एक भावना भी पैदा करना होगा कि वे एक कन्या के जीने का अधिकार स्वीकार करें |

माता-पिता को किसी भी बैंक में एक खाता खोलना होगा और किसी भी शासन अस्पताल में कन्या का जन्म होने पर राशि उनके खाते में सीधे स्थानांतरित कर दी जाएगी |

एक बार कन्या की उम्र 18 वर्ष हो जाने पर उसकी राशि mane में जमा करने के लिए उसे सौंप दी जाएगी | 18 वर्ष के अंत में, ब्याज की राशि मूल राशि में जोड़ दी जाएगी, और फिर पूरी राशि उम्मीदवार को दे दी जाएगी |

दुलारी कन्या योजना के लाभ :-

“दुलारी कन्या योजना” अरुणाचल प्रदेश सरकार के लिए फायदेमंद साबित होगी क्योंकि इसके माध्यम से सरकार आधिकारिक रूप से गर्भवती महिलाओं (pregnant women) की सही संख्या पर नजर रखने में सक्षम होगी और बढ़ती शिशु मृत्यु दर (Infant mortality) पर रोक लगाने के लिए सक्षम होगी |

“दुलारी कन्या योजना” गर्भवती महिलाओं (pregnant women) को किसी भी सरकारी स्वास्थ्य केन्द्रों में पूर्व और प्रसवोत्तर देखभाल (pre and post natal care) प्राप्त करने और बच्चे के जन्म के लिए संस्थागत प्रक्रिया को चुनने का एक मौका प्रदान करेगा |

इस योजना के लिए Fund कौन देगा :-

इस योजना के लिए वित्त पोषण (funding) राज्य और केंद्र सरकार द्वारा किया जाएगा | स्वास्थ्य और कल्याण (health and welfare), hydroelectricity generation, ग्रामीण कनेक्टिविटी (rural connectivity), सौर ऊर्जा उत्पादन (solar energy generation), पीने के पानी आदि क्षेत्रों के साथ साथ“दुलारी कन्या योजना” के विकास के लिए 8000 करोड़ रुपए की कुल राशि मंजूर की गई है |



योजना के तहत कन्या को वित्तीय सहायता प्राप्त होगी | इस राशि का इस्तेमाल महिला को एक बेहतर भविष्य देने के लिए किया जा सकता है | ये प्राप्त राशि उसकी शादी के समय उपयोग में आएगी | यह अरुणाचल प्रदेश में बालिकाओं की संख्या पर एक सकारात्मक प्रभाव डालेगा |

योजना गर्भावस्था के सभी मामलों पर track रखने का एक तरीका है | यह माताओं को बेहतर स्वास्थ्य की स्थिति प्रदान करने में सहायता करेगा | इस योजना के तहत दंड जिन लोगों को कन्या भ्रूण हत्या (female feticide) का दोषी पाया जाएगा, उनके लिए सजा की पर्याप्त गुंजाइश है |

योजना को केंद्र सरकार द्वारा मंजूर दी गई है, और परियोजना के सफलतापूर्वक क्रियान्वयन के लिए राज्य के अतिरिक्त केंद्र द्वारा इस योजना को आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी | यह योजना अन्य परियोजनाओं के साथ राज्य के विकास में एक उत्प्रेरक की भूमिका निभाएगी | इसके साथ राज्य का समग्र बुनियादी ढांचा बेहतर बन जाएगा, और शिशु मृत्यु दर (Infant mortality) भी कम हो जाएगी |

यह योजना अर्थव्यवस्था के लिए भी अच्छी है :-

“दुलारी कन्या योजना” राज्य के समग्र विकास के लिए फायदेमंद साबित होगी | लिंग अनुपात (sex ratio) सामान्य मानकों के रूप में बनाए रखने में यह मदद करेगा |समाज के विकास में महिलाओं का एक ठोस भाग होता है और कन्याओं की संख्या में वृद्धि के साथ, इस लक्ष्य को हासिल किया जा सकता है |

उचित पहचान के लिए आवश्यक दस्तावेज :-

गर्भवती महिलाओं के लिए माताओं का नाम किसी भी सरकारी अस्पताल में पंजीकृत होना आवश्यक है | इसके लिए उन्हें एक आधार कार्ड की जरूरत होगी | राज्य में कई लोगों के पास कोई कार्ड नहीं है | सरकार जितनी जल्दी हो सके उन्हें आधार कार्ड प्रदान करने के लिए ड्राइव शुरू कर दी है  |

Leave a Reply