सुकन्या समृद्धि खाता योजना के बारे में / About Sukanya Samriddhi Account Yojana(SSAY)

सुकन्या समृद्धि खाता योजना:

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा शुरू की गयी सुकन्या समृद्धि खाता योजना जिसे बालिका समृद्धि योजना के रूप में भी जाना जाता है | सुकन्या समृद्धि खाता भारत में बालिकाओं का उज्ज्वल भविष्य सुनिश्चित करने के लिए है । यह योजना उन्हें उचित शिक्षा और शादी के खर्च से चिंतामुक्त होने की सुविधा के लिए है । यह योजना बालिकाओं के साथ ही उनके माता-पिता और अभिभावकों को भी वित्तीय सुरक्षा और स्वतंत्रता प्रदान करेगा |

Sukanya Samriddhi Scheme

सुकन्या समृद्धि खाता योजना ‘ बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ ‘ अभियान के तहत बालिकाओं के लिए एक छोटे से जमा निवेश की एक पहल है | इस योजना के फायदों में से एक जो सबसे महत्वपूर्ण है वो यह है कि यह काफी सस्ती है और ब्याज की दर सबसे अधिक है। वर्तमान में इसे वर्ष 2015-16 के लिए 9.2 % प्रति वर्ष  के रूप में सेट किया गया है और यह SSAY (Sukanya Samriddhi Account Yojana) आयकर अधिनियम 1961 की धारा 80 सी के तहत है।

महत्वपूर्ण बिंदु :

  1. कन्या के 10 वर्ष के वयस्क हो जाने तक, सुकन्या समृद्धि खाता योजना के तहत उसका खाता खोला जा सकता है|
  2. इस योजना के तहत एक कन्या का केवल एक ही खाता खोलने की अनुमति है |
  3. उपभोक्ता अपनी स्वेक्षानुसार किसी भी डाकघर में या अधिकृत बैंकों में खाता खुलवा सकते हैं |
  4. SSAY के तहत एक खाता खोलने के लिए, बालिका का जन्म प्रमाण पत्र प्रस्तुत करना आवश्यक होगा |
  5. खाता खोलने के लिए आवश्यक राशि 1,000 रुपये है । इसके बाद 100 रुपये के multiple में उपभोक्ता 1000 रुपये प्रति वर्ष  की न्यूनतम राशि के साथ खाते में जमा कर सकता है |
  6. खाते में राशि जमा करने की अधिकतम सीमा 1,50,000 रुपये प्रति वर्ष  है |
  7. आपको इस योजना में मात्र 14 वर्ष के लिए भुगतान करना है। मान लीजिये की आपने अपनी बालिका का खाता X वर्ष की उम्र  में खोला है | उस स्थिति में आपको इस योजना में भुगतान तब तक करना है जब तक आपकी बालिका की उम्र X + 14 वर्ष नही हो जाती |
  8. खाते की परिपक्वता अवधि खाता खोलने की तिथि से 21 वर्ष है।
  9. सुकन्या समृद्धि खाता एक पोस्ट ऑफिस या बैंक से भारत में कहीं भी transfer किया जा सकता है |

यह योजना वित्त मंत्रालय से अधिसूचना जीएसआर 863 (ई ) के तहत आती है। इस अधिसूचना को 02 दिसंबर 2014 को प्रकाशित किया गया था । यह योजना सुकन्या समृद्धि खाता नियम, 2014 के नाम  से काम कर रही है |

सुकन्या समृद्धि खाता योजना में जमाकर्ता कौन होगा ?

जैसा की हमने बताया की सुकन्या समृद्धि खाता बालिकाओं के लिए समर्पित एक खाता है,अतः बालिकाओं के माता-पिता या अभिभावक ही खाते के जमाकर्ता हो सकते है।

3

सुकन्या समृद्धि खाता खोलने की आयु सीमा ?

कोई भी कानूनी अभिभावक या माता-पिता बालिका के जन्म के समय से उसके दस वर्ष के वयस्क हो जाने तक बालिका का  कभी भी इस योजना के तहत सुकन्या समृद्धि खाता खोल सकते हैं। अपवाद के रूप में , पहले इस योजना की घोषणा करने के एक वर्ष के भीतर ही अगर कोई बालिका दस साल की उम्र प्राप्त कर लेती है तो बालिका उसके नाम के तहत खोले गए इस खाते को पाने की हकदार होंगी |

एक रियायती अवधि के रूप में, 02 फरवरी 2003 से 01 दिसंबर 2004 के बीच पैदा हुई बालिकाएं भी इस योजना के तहत एक खाता प्राप्त करने की पात्र है हालांकि उनका खाता  01 दिसंबर 2015 तक खोला गया हो


|

सुकन्या समृद्धि खाता खोलने के लिए आवश्यक दस्तावेज़ ?

सुकन्या समृद्धि खाता खोलने की प्रक्रिया काफी सरल और सामान्य मामलों में बहुत ज्यादा दस्तावेज आवश्यक नहीं है । एक माता पिता या अभिभावक को योजना के तहत एक खाते के लिए आवेदन करते समय अपने साथ निम्लिखित दस्तावेज ले जाएँ :

  1. बालिकाओं का जन्म प्रमाण पत्र |
  2. माता-पिता / अभिभावक के पते का प्रमाण (Address Proof)
  3. माता-पिता / अभिभावक का पहचान पत्र |

इस तरह एक माता पिता या अभिभावक को योजना के तहत एक खाते के लिए मात्र 3 दस्तावेजों की आवश्यकता है |

सुकन्या समृद्धि खाता कहाँ खोल सकते हैं ?

सरकार इस योजना के तहत खाता खोलने के लिए विभिन्न वित्तीय संस्थाओं को अधिकृत करने की प्रक्रिया में है। हालांकि, अभी आप किसी भी पास पोस्ट ऑफिस या राष्ट्रीकृत बैंकों की किसी भी शाखा में खाता सकते हैं |

परिपक्वता के बाद खाता धारक खाता नही बंद करना चाहे उस स्थिति में

खाते का सामान्य कार्यकाल लड़की की 21 वर्ष की आयु पर निर्भर है। वह अगर आगे अकाउंट को जारी रखना चाहती है तो परिपक्वता राशि में योजना की वर्तमान दर के अनुसार ही ब्याज दर में बढ़ोतरी होगी।

सुकन्या समृद्धि खाता संचालित करने के लिए कौन अधिकृत है ?

जैसा की इस लेख में हमने पहले ही उल्लेख किया है कि बालिकाओं का खाता कानूनी अभिभावक या माता-पिता के द्वारा खोला जा सकता है। अतः  जब तक बालिकाएं 10 वर्ष कि नही हो जाती उसका संचालन माता-पिता या अभिभावक द्वारा किया जाएगा। 10 वर्ष के बाद, एक बालिका स्वयं उसके खाते को संचालित कर सकती है।

सुकन्या समृद्धि खाता योजना में पूर्व परिपक्व निकासी और खाता स्थानांतरण :

सुकन्या समृद्धि योजना पूरे भारत में शुरू किया गया है और इसलिए खाता धारक या जमाकर्ता के अन्य स्थानों में चले जाने कि स्थिति में  देश के किसी भी हिस्से में खाते का स्थानांतरण किया जा सकता है |

योजना कि स्पष्ट परिकल्पना के रूप में खाता धारक कि आयु 18 वर्ष होने के बाद बालिका कि शादी उच्च शिक्षा की आवश्यकता के लिए 50% तक की एक पूर्व परिपक्व राशि वापसी की अनुमति दी गयी है |

18 साल के बाद खाता धारक की शादी के मामले में , खाते का संचालन संभव नहीं होने की स्थिति मे इस योजना के खाता धारकों को शादी के बाद खाता बंद करने की सुविधा प्रदान की गयी है | उस मामले में, एक हलफनामे और प्रासंगिक सबूत जिसमे यह बताया गया हो की बालिका की उम्र 18 वर्ष  से ऊपर है और उस के बाद शादी कर दी गयी है |

सुकन्या समृद्धि खाता योजना से कर लाभ :

सुकन्या समृद्धि खाते में जमा कोई भी राशि जिसकी अधिकतम सीमा 1.5 लाख रुपये है आईटी अधिनियम, 1961 की धारा 80 सी के तहत कर से छूट होगी। इस खाते पर ब्याज और परिपक्वता राशि पर भी आय कर से छूट दी गई है ।

सुकन्या समृद्धि खाता योजना के लाभ :

  1. बाजार में सबसे उच्च और अच्छी ब्याज दर |
  2. आयकर अधिनियम की धारा 80 सी के तहत पूर्ण कर लाभ |
  3. परिपक्वता राशि बालिकाओं को सीधे दी जाती है |
  4. यदि खाता धारक या जमाकर्ता द्वारा खाता बंद नहीं किया जाता है तो ब्याज खाते की परिपक्वता के बाद भी दिया जाएगा |
  5. जमा की संख्या की कोई सीमा तय नहीं है |
  6. खाते को भारत में कहीं भी स्थानांतरित किया जा सकता है |
  7. बालिका अगर चाहे तो वह अपने खाते को स्वयं संचालित कर सकती है | इस के साथ ही बालिकाओं के लिए वित्तीय स्वतंत्रता के बहुत से मौके प्रदान करती है |

 

loading...

Comments

  1. By amit arya

    Reply

    • By Piyush

      Reply

Leave a Reply