14 जून – विश्व रक्तदाता दिवस

विश्व रक्तदाता दिवस (World Blood Donor Day) :-

विश्व भर में स्वैच्छिक रक्त दान को बढ़ावा देने के उद्देश्य से प्रति वर्ष 14 जून को विश्वभर के कई देशों में विश्व रक्त दाता दिवस मनाया जाता है |विश्व रक्त दाता दिवस (World Blood Donor Day) विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) द्वारा चिन्हित प्रमुख 8 आधिकारिक वैश्विक सार्वजनिक स्वास्थ्य अभियानों ( World Health Day, World Tuberculosis Day, World Immunization Week, World Malaria Day, World No Tobacco Day, World Hepatitis Day, World AIDS Day) में से एक है | यह दिन उन रक्तदाताओं (Blood Donors) को धन्यवाद देने के लिए प्रतिवर्ष मनाया जाता है जो दूसरों की रक्षा के लिए स्वेच्छा से निःशुल्क रक्तदान करते हैं |

रक्त और रक्त उत्पादों का आदान-प्रदान, हर साल लाखों लोगों की जान बचाने में मदद करता है | रक्त life-threatening स्थितियों से पीड़ित रोगियों को लंबे समय तक जीने में मदद करता है, और complex medical और शल्यचिकित्सा प्रक्रियाओं में समर्थन करता है | सुरक्षित और पर्याप्त रक्त Delivery के दौरान और बाद में गंभीर रक्तस्राव से होने वाली मृत्यु और विकलांगता की दर को कम करने में मदद कर सकता है | आज भी कई देशों में, सुरक्षित रक्त की कोई पर्याप्त आपूर्ति नहीं है, इस तरह के आयोजनों से लोगों में रक्त की गुणवत्ता और सुरक्षित रक्त के बारे में जागरूकता बढ़ेगी |

विश्व रक्तदाता दिवस का इतिहास :-

विश्व रक्त दाता दिवस को 14 जून 1868 में कार्ल लैंडस्टेनर के जन्मदिन की सालगिरह  की याद में हर साल 14 जून को मनाया जाता है | इस अवसर को पहली बार 2004 में मनाया गया था जिसमें स्वस्थ व्यक्ति द्वारा स्वेच्छा से और अवैतनिक सुरक्षित रक्तदान की आवश्यकता के बारे में जन जागरूकता बढ़ाने का लक्ष्य रखा गया था | इस दिन उन रक्तदाताओं को धन्यवाद दिया जाता है जो आवश्यक व्यक्ति को रक्त दान कर उनकी जीवन रक्षा में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं |

यह पहली बार वर्ष 2004 में “विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO), इंटरनेशनल फेडरेशन ऑफ़ रेड क्रॉस (International Federation of Red Cross) और रेड क्रेसेंट सोसाइटी (Red Crescent Societies) द्वारा इसे शुरू किया गया था जिसे 14 जून को सालाना मनाया जाने लगा | मई 2005 में आयोजित 58 वें विश्व स्वास्थ्य सम्मेलन में विश्व स्वास्थ्य संगठन के 192 सदस्यों द्वारा World Blood Donor Day को आधिकारिक तौर पर स्थापित किया गया |

विश्व रक्तदाता दिवस मनाने का उद्देश्य :-

  • विश्व स्वास्थ्य संगठन का उद्देश्य 2020 तक पूरे विश्व में स्वैच्छिक और अवैतनिक रक्त दाताओं द्वारा पर्याप्त रक्त की आपूर्ति प्राप्त करना है |
  • आंकड़ों के अनुसार, केवल 62 देश स्वैच्छिक और अवैतनिक रक्तदानकर्ताओं से पर्याप्त मात्रा में रक्त आपूर्ति प्राप्त कर रहे हैं जबकि 40 देश अभी भी मरीज के परिवार के सदस्यों के रक्त दान पर निर्भर हैं | इसे दुनिया भर के बाकी देशों में स्वैच्छिक रक्त दाताओं को प्रेरित करने के लिए मनाया जाता है |
  • रक्त प्राप्तकर्ता के लिये रक्त दान क्रिया एक अनमोल उपहार और नया जीवन पाने का एक रास्ता है |
  • विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) इस अभियान को सभी देशों में कई गतिविधियों का आयोजन करके आयोजित करती है | जिन्हें तत्काल रक्तदान करने की जरूरत होती है ऐसे लोगों की कहानियों पर प्रकाश डालती है |
  • लाखों लोगों के जीवन को बचाने के लिए पूरे विश्व के स्वैच्छिक और अवैतनिक रक्त दाताओं को बहुत-2 धन्यवाद कहने के लिए विश्व रक्त दाता दिवस (World Blood Donor Day) मनाया जाता है |
  • इसे 100% स्वैच्छिक और अवैतनिक रक्तदान की आवश्यकता को पूरा करने के लिए मनाया जाता है |
  • मातृ और शिशु मृत्यु दर को करने के लिए रक्त दाताओं को प्रेरित करने के लिए मनाया जाता है |
  • अपर्याप्त रक्त की आपूर्ति के कारण मृत्यु दर को कम करने के लिए मनाया जाता है |
  • अपर्याप्त रक्त की आपूर्ति के कारण मृत्यु दर को कम करने के लिए मनाया जाता है | कुपोषित गर्भधारण, प्रसव संबंधी संबंधित जटिलताओं, प्रसव के दौरान या बाद में गंभीर रक्तस्राव आदि के कारण आज भी महिलाएं मर रही हैं |
  • शैक्षिक कार्यक्रमों और अभियानों के माध्यम से स्वैच्छिक रक्त दाताओं को प्रेरित करने के लिए मनाया जाता है |

विश्व रक्तदाता दिवस के विषय :-

विश्व रक्त दाता दिवस (World Blood Donor Day) समारोह के लिए हर साल एक विषय का चयन किया जाता है | वर्ष 2004 से 2017 तक के विषय निम्नानुसार हैं :

  • वर्ष 2004 में विश्व रक्त दाता दिवस समारोह का विषय “Blood Saves Lives. Safe Blood Starts With Me”
  • वर्ष 2005 में विश्व रक्त दाता दिवस समारोह का विषय “Celebrating your gift of blood”
  • वर्ष 2006 में विश्व रक्त दाता दिवस समारोह का विषय “Commitment to Ensure Universal Access to Safe Blood”
  • वर्ष 2007 में विश्व रक्त दाता दिवस समारोह का विषय “Safe Blood for Safe Motherhood”
  • वर्ष 2008 में विश्व रक्त दाता दिवस समारोह का विषय “Giving blood regularly”
  • वर्ष 2009 में विश्व रक्त दाता दिवस समारोह का विषय “achieving 100 per cent non-remunerated donation of blood and blood components”
  • वर्ष 2010 में विश्व रक्त दाता दिवस समारोह का विषय “New Blood for the World”
  • वर्ष 2011 में विश्व रक्त दाता दिवस समारोह का विषय “More blood, more life”
  • वर्ष 2013 में विश्व रक्त दाता दिवस समारोह का विषय “Every blood donor is a hero”
  • वर्ष 2014 में विश्व रक्त दाता दिवस समारोह का विषय “Give the gift of life: Donate blood”
  • वर्ष 2015 में विश्व रक्त दाता दिवस समारोह का विषय “Safe blood for saving mothers”
  • वर्ष 2016 में विश्व रक्त दाता दिवस समारोह का विषय “Blood connects us all”
  • वर्ष 2017 में विश्व रक्त दाता दिवस समारोह का विषय “Give Blood. Give Now. Give Often”

Leave a Reply