11 July – World Population Day | विश्व जनसंख्या दिवस

World Population Day :-

विश्व जनसंख्या दिवस (World Population Day) मनाने का उद्देश्य जनसंख्या सम्बन्धी विभिन्न मुद्दों जैसे परिवार नियोजन के महत्व, लिंग समानता, गरीबी, मातृ स्वास्थ्य और मानव अधिकार के बारे में लोगों में जागरुकता बढ़ाना है | यह दिन दुनिया भर में विभिन्न व्यापारिक समूहों, सामुदायिक संगठनों और व्यक्तियों द्वारा कई गतिविधियों जैसे Seminar, discussions, educational information sessions और निबंध प्रतियोगिताओं के माध्यम से मनाया जाता है | वर्ष 2017 का विश्व जनसंख्या दिवस (World Population Day) 11 जुलाई दिन मंगलवार को पूरे विश्व में मनाया जाएगा |

World Population Day का इतिहास :-

विश्व जनसंख्या दिवस (World Population Day) 11 जुलाई को दुनिया भर में एक महान कार्यक्रम के रूप में मनाया जाता है | यह दुनिया भर के जनसंख्या मुद्दों के बारे में लोगों के बीच जागरूकता बढ़ाने के लिए मनाया जाता है | विश्व जनसंख्या दिवस (World Population Day) को पहली बार संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम (UNDP) की गवर्निंग काउंसिल द्वारा वर्ष 1989 में शुरू किया गया था | जब 11 जुलाई 1989 को वैश्विक आबादी 5 अरब के करीब आ गई तो जनता के हित के लिए  विश्व जनसंख्या दिवस (World Population Day) को एक कार्यक्रम के रूप में शुरू किया गया |

वर्ष 2012 में जब विश्वव्यापी आबादी लगभग 7,025,071,966 पहुँच गई थी, तब विश्व जनसंख्या दिवस (World Population Day) उत्सव के विषय द्वारा “Universal Access to Reproductive Health Services” निम्न संदेश वितरित किया गया था | छोटे और स्वस्थ समाज के साथ-साथ लोगों के अच्छे भविष्य के लिए प्राधिकरण द्वारा बड़ा कदम उठाया गया | Reproductive health में वृद्धि के साथ-साथ जनसंख्या को कम करके सामाजिक गरीबी को कम करने के लिए यह कदम उठाया गया |

जब 2011 में पृथ्वी की आबादी 7 अरब तक पहुंच गई तो विकास एक बड़ी चुनौती बन गई | 1989 में संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम (UNDP) की गवर्निंग काउंसिल के फैसले के अनुसार, यह सिफारिश की गई थी कि प्रत्येक वर्ष 11 जुलाई को विश्व जनसंख्या दिवस के रूप में मनाया जाना चाहिए ताकि आम लोगों के बीच जागरूकता बढ़े और जनता जनसंख्या के मुद्दों से निपटने के लिए वास्तविक समाधान ढूंढें |

World Population Day का उद्देश्य :-

  • यह लिंग भेद को खत्म करने और सभी युवाओं (लड़कियों और लड़कों) दोनों को सुरक्षित रखने और सशक्त बनाने के लिए मनाया जाता है |
  • उन्हें लैंगिकता के बारे में जानकारी दी जाती है और साथ ही जब तक वे अपनी जिम्मेदारियों को समझने में सक्षम न हो तब तक विवाह न करने की भी सलाह दी जाती है |
  • युवाओं को उचित और युवा-अनुकूल उपाय के उपयोग से अवांछित गर्भधारण से बचने के लिए शिक्षित करना |
  • समाज से लैंगिक रूढ़िवादिता(gender stereotypes) को हटाने के लिए लोगों को शिक्षित करना |
  • कम उम्र में प्रसव के खतरों के बारे में जन जागरूकता बढ़ाने के लिए इससे सम्बंधित बीमारियों के बारे में शिक्षित करना |
  • उन्हें यौन संचारित रोगों अर्थात STD (sexually transmitted diseases) के बारे में शिक्षित करना ताकि विभिन्न संक्रमणों से बचा जा सके |
  • बालिकाओं के अधिकारों की रक्षा के लिए कुछ प्रभावी कानूनों और नीतियों के कार्यान्वयन की मांग करना |
  • लड़के और लड़कियों दोनों के लिए समान प्राथमिक शिक्षा सुनिश्चित करना |
  • प्रत्येक जोड़े के लिए मूल प्राथमिक स्वास्थ्य सेवाओं के रूप में हर जगह reproductive health services को सुनिश्चित करना |

World Population Day के विषय :-

विश्व जनसंख्या दिवस (World Population Day) समारोह के लिए हर साल एक विषय का चयन किया जाता है | वर्ष 1996 से 2015 तक के विषय निम्नानुसार हैं :

  • वर्ष 1996 में विश्व जनसंख्या दिवस (World Population Day) समारोह का विषय “Reproductive Health and AIDS”
  • वर्ष 1997 में विश्व जनसंख्या दिवस (World Population Day) समारोह का विषय “Adolescent Reproductive Health Care”
  • वर्ष 1998 में विश्व जनसंख्या दिवस (World Population Day) समारोह का विषय “Approaching the Six Billion”
  • वर्ष 1999 में विश्व जनसंख्या दिवस (World Population Day) समारोह का विषय “Start the Count-up to the Day of Six Billion”
  • वर्ष 2000 में विश्व जनसंख्या दिवस (World Population Day) समारोह का विषय “Saving Women’s Lives”
  • वर्ष 2001 में विश्व जनसंख्या दिवस (World Population Day) समारोह का विषय “Population, Environment and Development”
  • वर्ष 2002 में विश्व जनसंख्या दिवस (World Population Day) समारोह का विषय “Poverty, Population and Development”
  • वर्ष 2003 में विश्व जनसंख्या दिवस (World Population Day) समारोह का विषय “1,000,000,000 adolescents”
  • वर्ष 2004 में विश्व जनसंख्या दिवस (World Population Day) समारोह का विषय “ICPD at 10”
  • वर्ष 2005 में विश्व जनसंख्या दिवस (World Population Day) समारोह का विषय “Equality Empowers”
  • वर्ष 2006 में विश्व जनसंख्या दिवस (World Population Day) समारोह का विषय “Being Young is Tough”
  • वर्ष 2007 में विश्व जनसंख्या दिवस (World Population Day) समारोह का विषय “Men at Work”
  • वर्ष 2008 में विश्व जनसंख्या दिवस (World Population Day) समारोह का विषय “Plan Your Family, Plan Your Future”
  • वर्ष 2009 में विश्व जनसंख्या दिवस (World Population Day) समारोह का विषय “Fight Poverty: Educate Girls”
  • वर्ष 2010 में विश्व जनसंख्या दिवस (World Population Day) समारोह का विषय “Be Counted: Say What You Need”
  • वर्ष 2011 में विश्व जनसंख्या दिवस (World Population Day) समारोह का विषय “7 Billion Actions”
  • वर्ष 2012 में विश्व जनसंख्या दिवस (World Population Day) समारोह का विषय “Universal Access to Reproductive Health Services”
  • वर्ष 2013 में विश्व जनसंख्या दिवस (World Population Day) समारोह का विषय “Focus is on Adolescent Pregnancy”
  • वर्ष 2014 में विश्व जनसंख्या दिवस (World Population Day) समारोह का विषय “A time to reflect on population trends and related issues” and “Investing in Young People”
  • वर्ष 2015 में विश्व जनसंख्या दिवस (World Population Day) समारोह का विषय “Vulnerable Populations in Emergencies”

Leave a Reply