पंजाब सरकार की “आशिर्वाद योजना”

आशिर्वाद योजना (Aashirwad Scheme) :-

राज्य की बालिकाओं के विवाह के लिए वित्तीय सहायता प्रदान करने के लिए पंजाब सरकार द्वारा आशिर्वाद योजना (Aashirwad Scheme) शुरू की गई है | इसके अतिरिक्त, पंजाब की राज्य सरकार द्वारा उन महिलाओं को जो एसिड हमलों (Acid attacks) की शिकार हैं उन्हें वित्तीय सहायता के रूप में 8,000/- रुपये की सहायता देने निर्णय लिया गया है | पंजाब सरकार ने शगुन योजना (Shagun Scheme) का नाम बदलकर आशिर्वाद योजना (Aashirwad Scheme) कर दिया है |

शगुन स्कीम (Shagun Scheme) के तहत, राज्य सरकार बेटी के विवाह के लिए 15,000/- रुपये की वित्तीय सहायता राज्य के गरीब परिवारों को दे रही है | लेकिन यह वित्तीय सहायता केवल 18 वर्ष से अधिक आयु की लड़कियों के लिए है |

इसके अलावा, राज्य सरकार ने एसिड पीड़ित योजना 2017 (Acid Victims Scheme 2017) के तहत एसिड हमलों से पीड़ित महिलाओं को 8,000/- रुपये प्रति माह वित्तीय सहायता प्रदान करने का प्रावधान किया है | यह योजना सामाजिक सुरक्षा और महिला एवं बाल विकास विभाग (Social Security and Development of Women and Children), पंजाब द्वारा लागू की जा रही है |

आशिर्वाद योजना की मुख्य बातें :-

  • इस योजना के लाभार्थियों में केवल पंजाब राज्य की लड़कियों को ही शामिल किया जाएगा |
  • एसिड हमलों से पीड़ित महिलाओं के परिवार के सदस्यों / रिश्तेदारों को जिला सामाजिक सुरक्षा अधिकारी (District Social Security Officer) के पास आवेदन करना होगा |
  • इसके बाद सरकार डिप्टी कमिश्नर (Deputy Commissioner) की अध्यक्षता में जिला स्तर पर एक समिति का गठन करेगी |
  • राज्य सरकार लाभार्थियों के बैंक खाते में सीधे भुगतान हस्तांतरित करेगा |

इस योजना को कार्यान्वित करने के लिए, राज्य सरकार ने राज्य में सेवा प्रदाता के रूप में कार्यरत फार्मासिस्ट श्रमिकों (Pharmacists workers) की अनुबंध अवधि को बढ़ा दिया है | तदनुसार, यह विस्तार अवधि एक वर्ष की होगी जो 1 अप्रैल 2017 से शुरू होकर 31 मार्च 2018 तक होगी |

इसके अलावा, राज्य सरकार ग्राम विकास और पंचायत विभाग (Rural Development and Panchayats Department) में जिला परिषदों के सहायक स्वास्थ्य केंद्रों में Class IV के लगभग 1,186 कर्मचारियों की भर्ती करेगी | इसके अलावा, इन कर्मचारियों को 7,000 रुपये प्रति माह की मौजूदा दर से वेतन मिलेगा |

Leave a Reply