उत्तराखंड सरकार की “पंडित दीनदयाल उपाध्याय सहकारिता किसान कल्याण योजना”

पंडित दीनदयाल उपाध्याय सहकारिता किसान कल्याण योजना:-

उत्तराखंड सरकार ने राज्य के छोटे और सीमांत किसानों के लिए “पंडित दीनदयाल उपाध्याय सहकारिता किसान कल्याण योजना (Pandit Deendayal Upadhyay Sahkarita Kisan Kalyan Yojna)” शुरू की है | यह एक कृषि ऋण योजना है जो कि राज्य के किसानों को 2% की ब्याज दर पर 1 लाख रुपये तक की राशि प्रदान करेगी | सीमावर्ती क्षेत्रों में रहने वाले किसान इस योजना का लाभ ले सकते हैं |

पंडित दीनदयाल उपाध्याय सहकरिता किसान कल्याण योजना (DUSKKY) की घोषणा राज्य के 18 वें स्थापना दिवस 9 नवंबर 2017 को उत्तराखंड के मुख्यमंत्री द्वारा की गई थी | इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने किसानों को लगभग 4,300 वितरित किये | इसके अलावा, केवल देहरादून में ही लगभग 15,000 सीमांत किसानों को अधिकारियों द्वारा 1 लाख रुपये का चेक दिया गया | पात्र किसान 3 वर्षों की अवधि के भीतर ऋण वापस कर सकते हैं | ऋण राशि का भुगतान न करने पर 1 वर्ष के बाद लिए किसान पर compounding charge लगाया जाएगा |

यह योजना ग्रामीण अर्थव्यवस्था को मजबूत करने और साथ साथ पहाड़ियों को छोड़ने के लिए मजबूर किसानों को भी मदद करेगी | यह कृषि ऋण योजना किसानों की वित्तीय स्थिति को भी सुधारने में मदद करेगी | राज्य सरकार cheque के माध्यम से ऋण राशि को वितरित करने के लिए कई शिविरों का आयोजन करेगी |

योजना का उद्देश्य :-

इस योजना का मुख्य उद्देश्य सीमांत किसानों को सस्ती ब्याज दरों पर 1 लाख रुपये तक का ऋण प्रदान करना है | किसानों को direct benefit transfer (DBT) के माध्यम से इस योजना का लाभ मिलेगा |

यह योजना केंद्र सरकार के 2022 तक किसानों की आय को दोगुना करने के दृष्टिकोण को पूरा करेगी | इस योजना के माध्यम से, इच्छुक किसान ग्रामीण क्षेत्रों में छोटे-छोटे कृषि आधारित इकाइयां (agro-based units) स्थापित कर आजीविका के विकल्पों में सुधार कर सकते है |

उत्तराखंड सरकार ने सूचित किया है कि उन्होंने ग्रामीण अर्थव्यवस्था को मजबूत बनाने के लिए Rural Development and Migration Commission का गठन किया है | उत्तराखंड देश का 5 वां राज्य है जहां एक केंद्रीय वित्त पोषित पहल के तहत DBT योजना शुरू की गई है | अब तक, केंद्र सरकार ने किसानों के लिए 75 लाख करोड़ की सब्सिडी जारी कर दी है | Direct Benefit Transfer (DBT) योजना किसान को उर्वरक खरीदने में मदद करेगी | सब्सिडी सीधे किसानों के बैंक खाते में स्थानांतरित की जा रही है |

योजना की मुख्य बातें :-

  • इस योजना का मुख्य उद्देश्य राज्य के गरीब और सीमांत किसानों की वित्तीय स्थिति में सुधार करना है |
  • इस योजना के अंतर्गत उत्तराखंड सरकार राज्य के किसानों को 1 लाख रुपये तक का ऋण केवल 2% ब्याज दर पर प्रदान करेगी |
  • इस ऋण को वापस करने के लिए 3 वर्षों का समय दिया जाएगा |
  • इस योजना का मुख्य उद्देश्य किसानों की आय को दोगुना करना है |

सरकार द्वारा पंडित दीनदयाल उपाध्याय सहकारिता किसान कल्याण योजना (Pandit Deendayal Upadhyay Sahkarita Kisan Kalyan Yojna) शुरू किये जाने का उद्देश्य यह है कि किसानों को soil health card मिल सके, ताकि वे मिट्टी की आवश्यकता के अनुसार बीज, उर्वरक या कीटनाशकों का इस्तेमाल कर सकें |

Leave a Reply